आटिज्म के अंदेशे की पहचान

यहाँ पर ऐसे कुछ तरीकों का विवरण है जिनका प्रयोग उन बच्चों पे करने से जिनको आटिज्म का संदेह हो यह जानने में आसानी होगी कि किस बच्चे को विस्तार से आटिज्म की जांच की जरूरत हो सकती है| यह तरीके ऑटिज्म का डायग्नोसिस नहीं बताते, सिर्फ उसकी जांच कराने की ज़रूरत दिखाते हैं:

छोटे बच्चों में प्रयोग होने वाले दो ऐसे तरीके हैं:

  1. Q-CHAT[i]

Q-CHAT हिंदी

यह एक आसान तरीका है जिसे 18 से 24 महीने के विकास वाले बच्चों के लिए प्रयोग किया जा सकता है| माता पिता से 10 सवाल पूछकर इसे पूरा किया जाता है| इसका PDF (English) http://docs.autismresearchcentre.com/tests/QCHAT-10.pdf  से प्राप्त किया जा सकता है| इसका हिंदी का PDF यहाँ से प्राप्त किया जा सकता है|

 

     2. M-CHAT[ii]

यह एक दूसरा तरीका ही जो थोड़ा विस्तार में है और जिसमें माता-पिता से पूछना और बच्चे को जांचना दोनों करने पड़ते हैं| इसे 16 से 30 महीने के विकास वाले बच्चों के लिए प्रयोग किया जा सकता है इसका PDF प्राप्त करें: https://www.m-chat.org/_references/mchatdotorg.pdf

   

    3. AQ10 – बच्चों के लिए

AQ-10 Hindi

यह Q-CHAT की तरह का टैस्ट या तरीका है जिसका इस्तेमाल 4 से 11 साल तक की उम्र के बच्चों के लिए किया जा सकता है. इसको भी  http://docs.autismresearchcentre.com/testsसे प्राप्त किया जा सकता है। इसका हिंदी का PDF यहाँ से प्राप्त किया जा सकता है:

 

   4. AQ 10 – किशोर अवस्था के लिए

AQ-10 Adolescent Hindi

यह Q-CHAT की तरह का टैस्ट या तरीका है जिसका इस्तेमाल 12 से 15 साल तक की उम्र के बच्चों के लिए किया जा सकता है. इसको भी  http://docs.autismresearchcentre.com/tests से प्राप्त किया जा सकता है। इसका हिंदी का PDF यहाँ से प्राप्त किया जा सकता है:

 

 

[i] एलीसन, सी, बैरन कोहेन-, एस, Wheelwright, एस, Charman, टी, Richler, जे, ब्राउजिंग, जी, और Brayne, सी (2008)। क्यू चैट (toddlers में आत्मकेंद्रित के लिए मात्रात्मक चेकलिस्ट): प्रारंभिक रिपोर्ट: उम्र के 18-24 महीने में ऑटिस्टिक लक्षण के एक सामान्य रूप से वितरित मात्रात्मक उपाय। आत्मकेंद्रित और विकासात्मक विकारों, 38 के जर्नल (8), 1414-1425।

[ii] रोबिन्स, डी एल, दल, डी, बार्टन, एम एल, और ग्रीन, जे ए (2001)। Toddlers में आत्मकेंद्रित के लिए संशोधित चेकलिस्ट: आत्मकेंद्रित और व्यापक विकासात्मक विकारों का जल्दी पता लगाने की जांच के लिए एक प्रारंभिक अध्ययन। आत्मकेंद्रित और विकासात्मक विकारों, 31 के जर्नल (2), 131-144।